Jodhpur Communal Clash How Violence Erupted In Jodhpur When Did The Controversy Begin

Trends

Jodhpur Clash: ईद से कुछ घंटे पहले राजस्थान के जोधपुर शहर में सोमवार देर रात सांप्रदायिक तनाव पैदा हो गया और इस दौरान पथराव में पांच पुलिसकर्मी घायल हो गए. पुलिस ने इसकी जानकारी दी. पुलिस बल की तैनाती से हालात पर काबू पा लिया गया लेकिन मंगलवार को ईद की नमाज के बाद तनाव फिर बढ़ गया. पुलिस ने बताया कि कुछ लोगों ने जालोरी गेट के पास के इलाके में पथराव किया जिसमें कुछ वाहन क्षतिग्रस्त हो गए. 

जोधपुर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का गृहनगर है, उन्होंने लोगों से शांति और सद्भाव बनाए रखने की अपील की है. मिली जानकारी के अनुसार इस विवाद की शुरुआत सोमवार आधी आधी रात के बाद हुई जब अल्पसंख्यक समुदाय के कुछ सदस्य ईद के मौके पर जालोरी गेट के पास एक चौराहे पर धार्मिक झंडे लगा रहे थे. इसमें कहा गया है कि लोगों ने चौराहे में स्थापित स्वतंत्रता सेनानी बालमुकुंद बिस्सा की प्रतिमा पर झंडा लगाया जिसका हिंदू समुदाय के लोगों ने विरोध किया.  उन्होंने आरोप लगाया कि वहां परशुराम जयंती पर लगाए गए भगवा ध्वज को हटाकर इस्लामी ध्वज लगा दिया, इसको लेकर दोनों समुदाय के लोग आमने सामने आ गए और झड़प हो गई. 

पुलिस नियंत्रण कक्ष के अनुसार स्थिति को नियंत्रित करने के लिए पुलिस मौके पर पहुंची लेकिन पथराव में पांच पुलिसकर्मी घायल हो गए. पुलिस ने जमा भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे. अफवाहों को फैलने से रोकने के लिए इलाके में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं भी बंद कर दी गई हैं. हालात काबू में कर लिए गए लेकिन मंगलवार सुबह जालोरी गेट के पास ईदगाह पर ईद की नमाज अदा की गई. नमाज के बाद फिर तनाव बढ़ गया और उस इलाके में पथराव हो गया जिसमें कुछ वाहन क्षतिग्रस्त हो गए. 

मुख्यमंत्री ने की शांति बनाए रखने की अपील

मुख्यमंत्री गहलोत ने घटना दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है. गहलोत ने मंगलवार सुबह ट्वीट किया, ‘‘जोधपुर के जालोरी गेट के निकट दो गुटों में झड़प से तनाव पैदा होना दुर्भाग्यपूर्ण है. प्रशासन को हर कीमत पर शांति एवं व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश दिए हैं.’’ गहलोत ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करते हुए कहा, ‘‘जोधपुर, मारवाड़ की प्रेम एवं भाईचारे की परंपरा का सम्मान करते हुए मैं सभी पक्षों से मार्मिक अपील करता हूं कि शांति बनाए रखें एवं कानून-व्यवस्था बनाने में सहयोग करें.’’

जयपुर में एक प्रवक्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री लगातार पूरी स्थिति की निगरानी कर रहे हैं, जिला प्रशासन को निर्देश दे रहे हैं. उन्होंने बताया कि मंगलवार को गहलोत का जन्मदिन भी है लेकिन इस ताजा घटनाक्रम के मद्देनजर उन्होंने लोगों से अपील की है कि वे उन्हें शुभकामना के संदेश भेज दें, शुभकामना देने मुख्यमंत्री निवास न आएं. 

प्रवक्ता के अनुसार गहलोत ने अभी मुलाकात के सारे कार्यक्रम निरस्त कर दिए हैं और जोधपुर मामले पर आवश्यक बैठक के लिए कार्यालय (सीएमओ) पहुंच रहे हैं. जोधपुर में भाजपा विधायक सूर्यकांता व्यास ने स्वतंत्रता सेनानी की प्रतिमा पर इस्लामी ध्वज लगाने पर आपत्ति जताई. अपने समर्थकों के साथ मौजूद व्यास कहा, ‘उन्होंने बिस्सा जी की प्रतिमा पर (झंडा लगाया) और हमें इस पर कड़ी आपत्ति है. हम इसे नहीं भूलेंगे.’ भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि स्वतंत्रता सेनानी बालमुकुंद बिस्सा की प्रतिमा पर इस्लामिक झंडा लगाने की निंदा की. उन्होंने ट्वीट किया,’स्वतंत्रता सेनानी बालमुकुंद बिस्सा जी की प्रतिमा पर अराजक तत्वों द्वारा इस्लामिक झंडे लगाना एवं परशुराम जयंती पर लगे केसरिया झंडे हटाना निंदनीय है.’ पूनियां ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करते हुए कहा,’आप सभी से निवेदन है कि शांति बनाए रखें. राज्य सरकार से मांग है कि अराजक तत्वों पर कड़ी कार्रवाई हो, राज्य में कानून का राज स्थापित हो.’

ये भी पढ़ें- Jodhpur Communal Clash: ‘हाथ में लाठी-डंडे, बच्चों के साथ मारपीट, ये हाल रहा तो हिंदुस्तान में गृह युद्ध हो जाएगा’, जोधपुर हिंसा के पीड़ितों ने बताया आंखों देखा हाल

Jodhpur Communal Clash: जालोरी गेट के बाद ईद पर जोधपुर के कबूतर चौक पर भिड़े दो समुदाय, दुकानों में लूटपाट, बच्ची को पीटा

https://www.abplive.com/news/india/jodhpur-communal-clash-how-violence-erupted-in-jodhpur-when-did-the-controversy-begin-2115434